RML डॉक्टर वाकिम हुसैन ब्लैक फंगस की दवा कि काला बाजारी करते हुये गिरफ्तार,,

लखनऊ राम मनोहर लोहिया का डॉ वामिक हुसैन ब्लैक फंगस की दवा काला बाजारी करते गिरफ्तार

पुलिस आयुक्त डीके ठाकुर ने उत्तर प्रदेश का पहला खुलासा ब्लैक फंगस जो कि लखनऊ थाना वजीरगंज में इंस्पेक्टर धनंजय पांडे व एडीसीपी राजेश श्रीवास्तव व पूरी क्राइम टीम का अभिनंदन करते हुए ₹20 हजार का इनाम देने का किया ऐलान

RML डॉक्टर वामिक हुसैन ब्लैक फंगस की दवा की काला बाजारी करते हुए गिरफ्तार
उत्तर प्रदेश राजधानी लखनऊ में ब्लैक फंगस की कालाबाजारी करने वाला राम मनोहर लोहिया का डॉक्टर इमरजेंसी मेडिसिन में तैनात ब्लैक फंगस की कालाबाजारी करते हुए कई ड्रग माफियाओं के साथ गिरफ्तार

गौतम ksp
संवादाता लखनऊ उत्तर प्रदेश की सरकार को लगातार किरकिरी करा रहे हैं सरकारी अस्पताल के डॉक्टर चाहे मेडिकल कॉलेज हो या राम मनोहर लोहिया हॉस्पिटल वा कई हॉस्पिटल रडार पर हैं ब्लैक फंगस की कालाबाजारी की सूचना लगातार कमिश्नरेट लखनऊ वजीरगंज को मिल रही एवं उच्च अधिकारियों ने इस शिकायत को संज्ञान में लेकर टीमें गठित कर उत्तर प्रदेश का पहला खुलासा लखनऊ के वजीरगंज थाने में बड़े पैमाने पर डॉ राम मनोहर लोहिया के डॉक्टर वामिक को ब्लैक फंगस की कालाबाजारी करते हुए 28 इंजेक्शन व 18 रेमडेसिविर के साथ 7 लोगों को गिरफ्तार किया बताते चलें राम मनोहर लोहिया के वरिष्ठ डॉक्टर वामिक हुसैन जो कि इमरजेंसी के मेडिसिन विभाग में कार्यरत हैं और ब्लैक फंगस की दवा की कालाबाजारी करते हुए लखनऊ में पकड़े गए जो कि सरगना बताया जा रहा हैं लखनऊ में इनके तीन ग्रुप जो कि काफी सक्रिय गैंग हैं साथ मिलकर कालाबाजारी करने में महारत हासिल है डॉक्टर वामिक हुसैन ने साथ ही बताते चलें अस्पतालों में जो गरीबों के लिए लगने वाले इंजेक्शन को डॉक्टर जैसे माफिया गरीबों का हक मारकर मार्केट में कालाबाजारी करते हुए 16 हजार से ₹24 हजार रुपये में अपने मददगार साथियों के साथ बेचते थे और जो कि इसका मार्केट मूल्य 11 सौ रुपये और सरकारी मूल्य ₹900 रुपये बताया जा रहा है लेकिन इस डॉक्टर ने तो इतिहास ही रच दिया कि जिस तरीके से इस आपदा में लोग अपनी मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाते हैं उसी तरीके से डॉक्टर ने अपने आप को यमराज साबित कर के षड्यंत्र रच कर बड़े पैमाने पर मकड़जाल फैलाकर कई गिरोह बनाकर अपना यह ब्लैक फंगस कालाबाजारी अवसरों का धंधा कई सालों से कर रहा है बताते चलें कि इसमें जो अपराधी किस्म के लोग हैं काफी पढ़े लिखे जो कि आज के युग में कहा जाता है कि डॉक्टर भगवान हैं इनके अपराधिक इतिहास की चर्चा में साथ देने वाले मोहम्मद राकिब M फार्मा PHD कर रहा है, मोहम्मद आरिफ़, मोहम्मद इमरान मेडिकल कॉलेज का संविदा कर्मचारी ,राजेश सिंह सर्जिकल ग्रुप सेल्समैन एवं वामिक हुसैन MBBS डॉक्टर इमरजेंसी मेडिसिन RML में तैनात ,बलबीर सिंह फार्मेसिस्ट हॉस्पिटल ट्रामा सेंटर को रंगे हाथ 28 ब्लैक फंगस 18 रेमडेसिविर,8 मोबाइल फोन,कार kia SELTOS ,UP 32,LF 7791,दो मोटरसाइकिल व 16 हजार 70 रुपये के साथ रफे आम क्लब के पास से मुखबिर की सूचना पर गिरफ्तार किया साथ ही गिरफ्तार करने वाली टीम को लखनऊ कमिश्नर ने प्रशंसा कर 20 हजार रुपए का इनाम देने की घोषणा की गिरफ्तार करने वाली टीम जो कि प्रभारी निरीक्षक धनंजय पांडे वजीरगंज उपनिरीक्षक उमाशंकर सिंह उप निरीक्षक विजय सिंह उप निरीक्षक राहुल द्विवेदी उपनिरीक्षक कृष्णदेव वर्मा, कांस्टेबल आशुतोष राय हेड कांस्टेबल ,लक्ष्मी निवास तिवारी ,सुधीर कुमार ,अनिल सिंह धीरेंद्र कुमार, प्रवीण कुमार लवकुश यादव , जनता के सहयोग से मददगार साबित हुए ब्लैक फंगस की दवा कालाबाजारी करने वालों का उत्तर प्रदेश का पहला ऐतिहासिक खुलासा जो कि काबिले तारीफ है कई वरिष्ठ सम्मानित लोगों द्वारा वजीर गंज पुलिस को सम्मानित करने की बात भी की जा रही है वजीरगंज पुलिस का यह काफी सराहनीय कार्य है जो कि इतिहास के रूप में दर्ज किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

application/x-httpd-php footer.php ( PHP script text )
%d bloggers like this: