ठाकुरगंज में दिनदहाड़े महिला से चैन लूट &

दिनदहाड़े ठाकुरगंज में महिला से चैन लूट

पै लगी चौकियों का दिखने लगा असर लखनऊ पश्चिम में

राजेश श्रीवास्तव एडीसीपी पश्चिम जोन द्वारा लगाई गई तीन टीमें जल्द ही हो सकती है चैन लुटेरों की गिरफ्तारी

गैतम ksp
संवादाता लखनऊ थाना ठाकुरगंज कैम्पल रोड में लॉक डाउन के दौरान सब्जी लेने जा रही महिला से दिनदहाड़े चैन लूट की घटना को दिया अंजाम वही बताते चलें कि ठाकुरगंज थाना के कैम्पल रोड एकता नगर में अपने परिवार के साथ रहने वाले आशीष कुमार जयसवाल की मानक नगर में शराब की दुकान है । आशीष कुमार जयसवाल सोमवार की दोपहर अपनी पत्नी रश्मि जयसवाल को लेकर चौक में डॉक्टर के यहां दवा लेने के लिए गए थे। आशीष जयसवाल दवा लेने के बाद अपनी पत्नी के साथ वापस घर की और जा रहे थे कैम्पबेल रोड एकता नगर पर गाड़ी से उतरने के बाद वह पैदल अपने घर की तरफ बढ़े घर के करीब ही मोटर साइकिल से सवार होकर आए दो लुटेरों ने आशीष जायसवाल के पीछे चल रही उनकी पत्नी रश्मि जयसवाल के गले से सोने की चेन लूटी और मौके से फरार हो गए। इससे पहले की कोई कुछ समझ पाता बदमाश हवा से बातें करते हुए रफूचक्कर हो गए । चीख-पुकार सुनकर लोग आए और सूचना पुलिस को दी उसके तुरंत बाद पुलिस मौके पर पहुंची और आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज की जांच शुरू कर दी। इंस्पेक्टर ठाकुरगंज सुनील कुमार दुबे ने बताया कि लूट की सूचना मिली थी घटनास्थल के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों को चेक किया जा रहा है तहरीर मिलने के बाद मुकदमा दर्ज किया जाएगा । ठाकुरगंज थाना क्षेत्र में दिनदहाड़े लूट की ये वारदात उस समय हुई जब लखनऊ में आंशिक लॉकडाउन लागू है और पुलिस लॉक डाउन का पालन कराने के लिए सड़कों पर मुस्तैद रहती है ऐसे हालात में बदमाशों के द्वारा दिनदहाड़े महिला के गले से चेन लूटकर आसानी से फरार हो जाना भी पुलिस की मुस्तैदी पर सवालिया निशान लगाता है। हालांकि पुलिस अब पूरी तरह मुस्तैदी से महिला के गले से चेन लूटने वाले लुटेरों की तलाश में जुट गई है और सीसीटीवी फुटेज के आधार पर बदमाशों की तलाश कर टीम गठित कर कामयाबी की दिशा तलाश करती नजर आई ठाकुरगंज पुलिस वही एडीसीपी राजेश श्रीवास्तव जी का कहना है कि फुटेज के आधार पर बदमाशों की तलाश की जा रही है बहुत ही जल्द खुलासा कर बदमाशों को भेजेगी ठाकुरगंज पुलिस सलाखों के पीछे यही ना बालागंज चौकी इंचार्ज अपने आपको नाम के आगे लगाने वाले कहा जाता है कि चौकी छोड़कर ना जाने की आदत सी है अपने क्षेत्र में भ्रमण न करने का कुमार अक्सर कर देखा गया है बालागंज चौकी का चार्ज पाते ही चौकी इंचार्ज हो जाते हैं गुमराह एक बार कहा जा सकता है कि पुराने लखनऊ में पै लगी से मिल रही चौकियों का हो रहा है दीदार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

application/x-httpd-php footer.php ( PHP script text )
%d bloggers like this: