100 से नहीं हजार रुपए की वसूली से भागेगा करोना (?)

100 से नहीं हजार रुपए वसूली से भागेगा करोना(?)

गौतम ksp
संवादाता लखनऊ भारत में बढ़ते कोरोना वायरस से अनगिनत मौतों का मामला सामने आ रहा है आम जनमानस पर किस तरीके से कोविड-19 की गाज गिर रही है काफी दुर्भाग्यपूर्ण हैं व चिंता का विषय है कोरोना वायरस, बीमारियों से कौन बचना नही चाहेगा सरकार के ठेकेदार कहां गए की हमने कोरोना जैसी बीमारियों पर काबू पा लिया है सरकारी स्तंभ का काफी शर्मनाक तरीका है कि अपने आप को बचाते हुए यह कह लीजिए अपनी नाकामी को छुपाते हुए ये कैसा अजीबो गरीब कारनामा है कि आदेश जारी कर दिया है मास्क ना लगाने वालों को 100 का नहीं ₹1000 का जुर्माना वसूला जाएगा एक हजार वसूलने से क्या कोरोनावायरस का अंत मुमकिन है क्या इसका जवाब है हमारी आपकी सरकार के पास (नहीं )इसका जवाब हम अपनी जिम्मेदारियों को दूसरों के ऊपर डालकर बचना चाहते हैं और आरोप-प्रत्यारोप लगाकर दंड के नाम पर वसूली कर राजस्व बढ़ाने का कार्य कर रहे हैं यहां हमारे बीच का चौथा स्तंभ और जनता की किस तरीके से मौत के आंकड़े आ रहे हैं काफी शर्मनाक और चिंताजनक है इसके लिए सरकार को इस महामारी में मास्क का जुर्माना वसूलना किस तरीके का फैसला है बहुत कुछ सोचने को मजबूर कर रहा है एक तरफ हमारे भाइयों माताओं बहनों को जिस तरह चिताओं की लपटें भी हम नहीं देख पा रहे हैं बेतुकी सरकार का तुगलकी फरमान भी और बीमारियों को न्योता दे रहे हैं हमारे पुलिस के जवानों की भी नहीं चिंता है कि 24 घंटे ड्यूटी व चेकिंग के दौरान हमें कह दिया जाता है कि तुम्हें इतने चलान करने हैं इस तरीके के चालान करने के साथ साथ हम कितनी घातक बीमारियों का भी सामना कर कोविड-19 को बुलावा दे रहे हैं मास्क ना लगाने वालों को जुर्माना वसूल कर हम अपने लोग को बीमारियों के करीब पहुँचाकर अपने जवानों को भी खो रहे है जिसकी जिज्ञासा का किसी को भी अनुमान नहीं सरकार के साथ-साथ कमिश्नरेट लखनऊ को भी अध्ययन करना चाहिए कि कितना बड़ा सच है जिसको हम झुठला नहीं सकते जनता के साथ-साथ अपने पुलिस कर्मियों के जीवन से भी खिलवाड़ नही कर सकते इस समय जनता का पैरोकार पुलिस से बड़ा कोई नहीं है जय हो कमिश्नरेट पुलिस।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

application/x-httpd-php footer.php ( PHP script text )
%d bloggers like this: