UP सरकार ने कृषि उत्पादन आयुक्त (एपीसी) राजेंद्र कुमार तिवारी को कार्यवाहक मुख्य सचिव नियुक्त किया

उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव के पद पर 14 माह के कार्यकाल के बाद शनिवार को डॉ. अनूप चंद्र पाण्डेय शनिवार को सेवानिवृत हो गए। उनको छह माह का सेवा विस्तार भी मिला था। उनके स्थान पर एपीसी आरके तिवारी को मुख्य सचिव का भी चार्ज सौंपा गया है। श्री तिवारी ने शनिवार को लोक भवन में श्री पाण्डेय से चार्ज लिया।मुख्य सचिव डॉ.अनूप चंद्र पाण्डेय शनिवार को रिटायर हो गए। सरकार ने कृषि उत्पादन आयुक्त (एपीसी) राजेंद्र कुमार तिवारी को कार्यवाहक मुख्य सचिव नियुक्त किया है। वह मुख्य सचिव के पद पर नियमित नियुक्ति होने तक यह अतिरिक्त जिम्मेदारी संभालेंगे।शनिवार की देर शाम सरकार की ओर से जारी बयान के अनुसार, अपर मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी को शासन से भेजे गए पत्र में कहा गया है कि मुख्य सचिव अनूप चंद्र पाण्डेय की सेवानिवृत्ति के फलस्वरूप मुख्य सचिव के पद पर नियमित नियुक्ति होने तक मुख्य सचिव यूपी शासन के कार्य एवं दायित्वों का निर्वहन करने के लिए आपको अधिकृत किया जाता है।शनिवार रात पांडेय से कार्यभार ग्रहण करने वाले तिवारी 1985 बैच के आइएएस हैं। मुख्य सचिव का कार्यभार संभालने के बाद मीडिया से मुखातिब तिवारी ने कहा कि वह प्रदेश में विकास कार्यों को आगे बढ़ाएंगे। नौकरशाही के मुखिया के तौर पर वह सभी अधिकारियों के साथ मिलकर काम करेंगे और सभी वर्गों के हितों का ख्याल रखेंगे।मुख्य सचिव जैसे महत्वपूर्ण पद पर सरकार ने फिलहाल किसी अफसर की नियमित तैनाती न कर उसे कृषि उत्पादन आयुक्त को अतिरिक्त कार्यभार के तौर पर सौंपा है। ऐसे में नियमित मुख्य सचिव के नाम को लेकर चर्चाएं थमी नहीं हैैं। केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर तैनात 1984 बैच के आइएएस दुर्गा शंकर मिश्रा और संजय अग्रवाल को इस पद का प्रबल दावेदार माना जा रहा है। दुर्गा शंकर केंद्र में आवास व शहरी कार्य और संजय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय के सचिव हैं। इनमें से किसी को मुख्य सचिव बनाने के लिए राज्य सरकार को उन्हें केंद्रीय प्रतिनियुक्ति से वापस भेजने का अनुरोध करना होगा। 1986 बैच के आइएएस और नोएडा अथारिटी के चेयरमैन आलोक टंडन भी इस रेस में शामिल हैं।कार्यवाहक मुख्य सचिव की जिम्मेदारी संभालने वाले राजेंद्र कुमार तिवारी, राजस्व परिषद के अध्यक्ष दीपक त्रिवेदी, अपर मुख्य सचिव नियुक्ति एवं कार्मिक मुकुल सिंघल और अपर मुख्य सचिव वाणिज्य कर आलोक सिन्हा को भी मुख्य सचिव पद का दावेदार बताया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि शनिवार को रिटायर हुए 1984 बैच के आइएएस पांडेय उत्तर प्रदेश के 52वें और योगी सरकार के कार्यकाल में तीसरे मुख्य सचिव बने थे। छह माह का सेवा विस्तार मिलने से पाण्डेय का मुख्य सचिव के तौर पर कार्यकाल एक साल दो महीने रहा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

application/x-httpd-php footer.php ( PHP script text )
%d bloggers like this: