यूपी सरकार की शुरूआती जांच में सोनभद्र नरसंहार के पीछे एसपी और कांग्रेस कनेक्शन

ANA News

नई दिल्ली: सोनभद्र में 10 लोगों की हत्या के बाद से ही यूपी की राजनीति गर्म है. संसद से लेकर सड़क तक हंगामा मचा है. यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने आज उम्भा गांव का दौरा किया. पीड़ित परिवारों से मुलाक़ात की. वे लखनऊ लौटकर आए तो फिर एक बार इस घटना के लिए कांग्रेस और समाजवादी पार्टी को क़सूरवार ठहराया. ये आरोप वे पहले ही दिन से लगाते रहे हैं. लेकिन आज उनके ऑफ़िस से इस बारे में कुछ सबूत पेश किए गए.

यूपी सरकार की तरफ़ से बताया गया है कि मुख्य आरोपी ग्राम प्रधान यज्ञदत्त समाजवादी पार्टी का नेता है. वो पार्टी के विधायक रहे रमेश चंद्र दूबे का दाहिना हाथ माना जाता है. राज्य सरकार के दावे के मुताबिक़ पिछले लोकसभा चुनाव में आरोपी ने समाजवादी पार्टी के लिए प्रचार किया था. 2017 के विधानसभा चुनाव में भी ग्राम प्रधान यज्ञदत्त ने अखिलेश यादव की पार्टी के लिए काम किया था. सोनभद्र के डीएम की शुरूआती जांच में ये सारी बातें सामने आई हैं. ये भी पता चला है कि आरोपी प्रधान को अखिलेश सरकार में सड़क बनाने के कुछ ठेके भी मिले थे.

जिस ज़मीन को लेकर दस लोगों की जान चली गई. वो कुछ पहले तक एक सोसाइटी की थी. जिसका नाम आदर्श सोसाइटी था. इसी सोसाइटी से आरोपी ग्राम प्रधान यज्ञदत्त ने कुछ ज़मीन ख़रीदी थी. जिस पर क़ब्ज़े के लिए उसके तीन सौ समर्थक हथियार लेकर 17 जुलाई को उम्भा गांव पहुंचे थे. जब गांव वालों ने विरोध किया तो प्रधान के समर्थकों ने फ़ायरिंग कर दी. इसी गोली बारी में दस लोगों की मौत हो गई. अब यूपी सरकार की तरफ़ से बताया गया है कि आदर्श सोसाइटी कांग्रेस नेता ने बनाई थी. ये सोसाइटी बिहार से राज्य सभा के सांसद रहे महेश्वर नारायण सिंह की थी. जिनके चाचा चंद्रेश्वर नारायण सिंह यूपी के गवर्नर थे. वे 1980 से लेकर 1985 तक राज्य के राज्यपाल रहे. डीएम की रिपोर्ट के मुताबिक़ महेश्वर नारायण सिंह ने उस समय के राजा आनंद शाह से जमीन लेकर सोसाइटी बनाई थी. बाद में 1989 में इसी सोसाइटी की कुछ जमीन एक आईएएस अफसर और उनके रिश्तेदारों के नाम कर दी गई.

घटना के बाद से ही सीएम योगी आदित्यनाथ कांग्रेस और समाजवादी पार्टी कनेक्शन पर ठीकरा फोड़ रहे हैं. यूपी विधानसभा में भी उन्होंने यही बात कही. दिल्ली से लेकर लखनऊ तक बीजेपी के हर छोटे बड़े नेता भी इसी लाईन पर बयान दे रहे हैं. प्रियंका गांधी को सोनभद्र नहीं जाने दिया गया. उन्हें चुनार गेस्ट हाउस में ही रोक लिया गया. यहीं पर प्रियंका ने पीड़ित परिवारों से मुलाक़ात की. समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव भी 23 तारीख़ को सोनभद्र का दौरा करेंगे. अब तक इस मामले में मुख्य आरोपी प्रधान यज्ञदत्त और उसके भाई देव दत्त समेत 28 लोग गिरफ़्तार किए जा चुके हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

application/x-httpd-php footer.php ( PHP script text )
%d bloggers like this: