लखनऊ: पुलिस ने मुठभेड़ में तीन बदमाश और दो सिपाही घायल,मुठभेड़ में पुलिस सवालों के घेरे

ANA News

लखनऊ: सूबे की राजधानी लखनऊ में आज सुुबह तड़के पुुलिस बदमाश में मुठभेड़ हुई जिसमें दो सिपाही और तीन बदमाश घायल हो गए

बता दें कृष्णा नगर थाना क्षेत्र  स्थित केसरीखेड़ा अंडर पास से 100 मीटर करीब चार बजे रुकने का इशारा करते ही बदमाशों ने पुलिस टीम पर फायरिंग कर दी। जवाबी फायरिंग में तीन बदमाश घायल हो गए। पुलिस टीम के दो सिपाही सुनील राय कृष्णानगर और अखिलेश आलमबाग भी घायल हो गए। बदमाशों के नाम अजय गुप्ता उर्फ टिंकू नेपाली, लइक और मोहक शास्त्री जिनके पास से एक मोटरसाइकिल, दो तमंचे और पिस्टल मिली।

घायलों को तत्काल लोकबंधु अस्पताल ले जाया गया इसी दौरान उन्होंने बताया कि रेकी कर तीन व्यापारी को चिन्हित किया है जिन्हें लूटने की योजना बनाने के लिए जा रहे थे। साथ ही यह भी बताया कि इससे पहले कृष्णानगर में लूट, थाना नाका में आइसक्रीम पार्लर में लूट और गोमतीनगर में इलेक्शन के रिजल्ट वाले दिन गोली मार चुके हैं। लेकिन दोनों मामलों में माल नहीं मिला जिससे हताश होकर किसी बड़ी घटना को अंजाम देना चाह रहे थे।

तीनों ने यह भी बताया कि इन पर लूट और हत्या के दर्जनों मुकदमे हैं और इनका सरगना टिंकू कपाला है, जो फरार है। टिंकू पर भी हत्या और डकैती के डेढ़ दर्जन मुकदमे उत्तर प्रदेश, गुजरात और महाराष्ट्र में दर्ज हैं। हाल फिलहाल में इसी गैंग ने बिहार के मुजफ्फरपुर में भी दो डकैती डाली हैं।

एडीजी जोन, आईजी रेंज और एसएसपी लखनऊ मौके पर पहुंचे। उच्चाधिकारियों ने एसएसपी लखनऊ की टीम की मेहनत की प्रशंसा की और एडीजी जोन द्वारा गिरफ्तार करने वाली टीम को 75000 की धनराशि से पुरस्कृत करने की घोषणा की है।

आज का पुलिस बदमाश मुठभेड़ मैं कुछ सवालों के घेरे में है लखनऊ पुलिस आइए जानते हैं क्या है कुछ अहम सवाल है –

1 – पहला सवाल लखनऊ में बीते दिनों में हुई 3 बड़ी घटनाओं को अंजाम देने वाले अपराधी एक ही मोटर साइकिल से जा रहे थे

2 – सूत्रों के मुताबिक अपराधी जिस मोटरसाइकिल से जा रहे थे उसकी पेट्रोल इंडिकेटर पेट्रोल न होने की तरफ इशारा कर रहा है।

3 – तीसरा सवाल आलमबाग में लूट पॉइंट 30 बोर से हमला करने वाले अपराधी देसी कट्टा और 32 बोर की पिस्टल लेकर घटना करने जा रहे थे।

4 – चौथा सवाल जिस कट्टे को बरामद किया गया उसमे लगा हुआ कारतूस फायर ही नही हुआ।

इन तमाम बातों पर ग़ौर करने के बाद एक बात तो साफ है कि लखनऊ में बढ़ते अपराध को रोकने और कुर्सी में जमे रहने के लिए इस एनकाउंटर को प्लान किया गया। लेकिन क्या यह एनकाउंटर रोज़ हो रहे लूट, हत्या, डकैती, महिलाओ के साथ हो रहे अपराधों पर लगाम लगा पाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

application/x-httpd-php footer.php ( PHP script text )
%d bloggers like this: