नई दिल्ली: 5 हजार करोड़ के ड्रग्स रैकेट का हुआ भंडाफोड़, खाली बोरियों में होती थी इनकी तस्करी…

ANA News

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में नशे का कारोबार काफी समय से पनप रहा है। इस नशे के लत के चलते लाखों युवाओं की जिंदगियां तबाह हो रही है। ऐसे में इसका एक ताजा मामला सामने आया है। शुक्रवार को स्पेशल सेल ने दिल्ली में चल रही हेरोइन की अवैध फैक्ट्री पर रेड मारी है, जिसका ताल्लुक तालिबान तक है।

 

नशे का कारोबार

बता दें इस अवैध फैक्ट्री में छापेमारी के दौरान करीब 600 करोड़ की हेरोइन जब्त की गई है। यह दिल्ली से जब्त की गई अबतक की सबसे बड़ी खेप है। स्पेशल सेल का कहना है कि यह रैकिट अब तक भारत में 5 हजार करोड़ रुपये तक की हेरोइन ला चुका है। इसमें सबसे खास बात यह है कि ड्रग्स को बहुत ही चालाकी से खाली बोरियों के जरिए अफगान से दिल्ली लाया जाता है। इस शातिराना अंदाज के बारे में जानकर आप हैरान हो जाएंगे। हेरोइन को खाली बोरियों के जरिए लाया जाता था। जानिए कैसे….

खाली बोरी में आते थे ड्रग्स

इसे अफगानिस्तान से इंपोर्ट करके दिल्ली लाई जाने वाली जीरे की बोरी में हेरोइन की स्मगलिंग की जाती थी। जूट की बोरियों को अफगानिस्तान में लिक्विड हेरोइन में डुबो दिया जाता था। बोरियों के सूख जाने के बाद बोरियों में जीरा भरकर दिल्ली लाया जाता था। इसके बाद बोरियों को वे लोग दिल्ली में जाकिर नगर स्थित फैक्ट्री में ले जाकर कई तरह के केमिकल में भिगोते थे। उसके बाद गीली बोरियों को सुखाकर इनके रेसों में चिपटी हेरोइन को खास तकनीक से पाउडर रूप में बदल दिया जाता था। इसके बाद ड्रग्स बोरियों को जला दिया जाता था। इन सभी जूट की एक बोरी से कम से कम एक किलो हेरोइन निकलती थी। ऐसे में इस एक खली बोरी की कीमत लगभग 4 करोड़ रुपये हो जाती थी। बोरियों में हेरोइन की स्मगलिंग करने का यह तरीका एकदम नया और चौकाने वाला था।

तस्कर ड्रग्स को अफगान से दिल्ली कैसे लाते थे

जानकारी के मुताबिक हेरोइन को अफगानिस्तान से पाकिस्तान के रास्ते होते हुए दिल्ली लाया जाता था। पुलिस ने लगभग 120 दिनों तक चले अपने ऑपरेशन के बाद इस रैकिट का पर्दाफाश किया। पुलिस के मुताबिक पाकिस्तान-अफगानिस्तान के ड्रग तस्करों का यह सिंडिकेट ड्रग्स में डूबे जूट के धागों को जलालाबाद से पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर भेजता था। इसके बाद उन धागों की बोरियां बना दी जाती थीं। इसके बाद बोरियों में मसाले और अन्य सामान भरकर दिल्ली में रह रहे कश्मीर के मसाला कारोबारियों तक पहुंचाई जाती थीं। दिल्ली में बोरोयों को खाली कर तस्कर उसे फिर अपने साथ ले जाते थे।

 

ड्रग्स के साथ लग्जरी गाड़ियां और हथियार हुए बरामद

 

आपको बता दें जाकिर नगर की ड्रग्स फैक्ट्री से पुलिस के स्पेशल सेल ने तीन लोगों की गिरफ्तारी भी की है। जिनमें से दो अफगानिस्तानी हैं। लाजपत नगर इलाके से दो और आरोपी अरेस्ट हुए हैं। उनसे स्पेशल सेल ने 600 करोड़ रुपये की कीमत की 150 किलो हेरोइन जब्त की है। इतना ही नहीं ड्रग्स के साथ-साथ उनके पास से चार लग्जरी कार, दो पिस्टल और 20 जिंदा कारतूस को भी बरामद किया गया है। गिरफ्तार मुलजिमों में अफगानिस्तान के रहने वाले शिनवारी रहमत गुल और अख्तर मोहम्मद शिनवारी हैं। जो हमेशा इंडिया आते-जाते रहते हैं।

 

वहीं स्पेशल सेल की टीम ने लाजपत नगर इलाके से आधी रात को धीरज और रईस खान को भी इस मामले में दो अलग-अलग कारों में पकड़ा है। जब उन दोनों लोगों की तलाशी ली गई तो कार की डिग्गी और बैक सीट के बीच से 30-30 किलो हेरोइन बरामद की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

application/x-httpd-php footer.php ( PHP script text )
%d bloggers like this: