फैजुल्लागंज की काॅलोनियों में गंदगी और जलजमाव से संक्रामक रोगों का बढ़ा खतरा

ANA News

लखनऊ। राजधानी लखनऊ के फैजुल्लागंज के कई वार्डों की कालोनियों में पानी भर गया है। इसके साथ-साथ इन क्षेत्रों में कच्ची सड़कों के किनारे नाली नहीं होने से लोगों को निकलना मुश्किल हो गया है। यहां गंदे जानवरों की संख्या बढ़ने और गंदगी की वजह से संक्रामक रोगों का खतरा बढ़ गया है। यहां के लोग चिकनगुनिया, महामारी, डेंगू व चिकन पाॅक्स रोग से डरे सहमे हुए हैं। केशवनगर थर्ड, संत कबीर नगर, दाउदनगर, डूडोली, बसंत विहार कॉलोनी, प्रीति नगर, गायत्री नगर, नौबस्ता खुदान, हरिओम नगर और शिवनगर कालोनियां में गंदगी और जलभराव से संक्रामक रोगों का घतरा मंडरा रहा है। बारिश में कच्ची सड.कों से राहगीरों के साथ बच्चों को स्कूल जाने में भी परेशानी हो रही है। नाली व सीवरलाइन के अभाव में यहां बारिश के पानी के निकास की उचित व्यवस्था नहीं है। जिसके चलते मानसून की शुरूआती बारिश में ही पूरा फैजुल्लागंज जलमग्न हो गया है। इसके अलावा गंदे जानवरों संख्या भी काफी ज्यादा है।

फैजुल्लागंज के समाजसेवी जेपी द्विवेदी का कहना है कि लखनऊ एशिया का सबसे बड़ा महानगर होने के बावजूद भी 172 विधानसभा लखनऊ फैजुल्लागंज चारों वार्ड अभी तक मूलभूत सुविधाओं से वंचित रहा है। पहली बारिश में अनेकों कालोनी जलमग्न हो गई है।

द्विवेदी ने बताया कि क्षेत्रों में सड़क व नाली ना होने से कच्ची सड़कों से लोगों का निकलना मुश्किल हो गया है। वहीं छोटे-छोटे बच्चों को स्कूल जाने में तरह-तरह की मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा है। यहीं के अजीत सिंह बागी, अमित श्रीवास्तव, प्रमोद श्रीवास्तव, मो. फहीम, एसके शुक्ला का कहना है कि फैजुल्लागंज के कई कालोनियों में गंदे जानवरों की तादाद काफी बढ़ गई है। इससे बच्चे छोटे-छोटे डरे हुए हैं। गंदगी की वजह से लोगों को संक्रामक रोग जैसे चिकनगुनिया, महामारी, डेंगू व चिकन पाॅक्स रोगों का डर सताने लगा है।

प्रीति नगर कालोनी के राजू पांडेय, गोविंद मिश्रा व मोहम्मद इजहार का कहना है कि क्षेत्र में एंटी लार्वा और फागिंग की गाड़ी केवल कागजों पर दौड़ रही है। क्षेत्र में अधिकांश गलियों में स्ट्रीट लाइट ना होने से आधा क्षेत्र अंधेरे में रहता है। इनका कहना है कि क्षेत्र में अधिकांश हैंडपंप खराब पड़े हुए हैं। समय से सप्लाई का पानी ना पहुंचने से जनता परेशान रहती है। प्रीति नगर कालोनी में 11000 वाट का खंभा जर्जर हो चुका है। जिससे यहां कभी भी हादसा हो सकता है। इनका यह भी कहना है कि नगर निगम टीम द्वारा कभी भी यहां समय से कूड़ा नहीं उठाया जाता। इससे और भी गंदगी फैल रही है। वहीं जेपी द्विवेदी का कहना है कि मैं स्वयं अपनी टीम के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के जनता दरबार में 11 अप्रैल 2017 को इन सभी मामलों की शिकायत की थी। बावजूद कोई ध्यान नहीं दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

application/x-httpd-php footer.php ( PHP script text )
%d bloggers like this: