आबकारी मंत्री ने की समीक्षा बैठक, अधिकारियों को दिये सख्त निर्देश

ANA News

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के आबकारी मंत्री जय प्रताप सिंह ने शनिवार को अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। इस दौरान उन्होंने विभागियों अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि जनपद में स्थित सभी कच्ची दुकानों को चिन्हित कर लें और उन्हें दिये गये समयावधि के भीतर पक्का कराना सुनिश्चित करें। साथ ही, प्रदेश में मदिरा की जो दुकानें लाइसेंस के प्रावधानों के पूरा नहीं करती हैं उन्हें 15 दिन का समय दिया गया है ताकि आवश्यक लाइसेंस प्रावधानों को पूरा कर लें। ऐसा न करने पर दुकानों का लाइसेंस निरस्त कर दिया जायेगा।

 

आबकारी मंत्री ने अधिकारियों को दूसरे राज्यों से बिना सीमा शुल्क दिये आ रही मदिरा के व्यापार पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाई जाए। सभी अधिकारी व कर्मचारीयों की कार्यशैली में बदलाव की आवश्यकता है। कार्य करने की इच्छा शक्ति होनी चाहिए। सभी अपनी-अपनी जिम्मेदारियों निभाएं ताकि प्रदेश में कहीं पर भी अप्रिय घटना न होने पाये। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अधिकारी और कर्मचारी समस्याओं का निस्तारण अपने स्तर पर शीघ्रता से करना सुनिश्चित करें।

 

समीक्षा बैठक में प्रमुख सचिव आबकारी संजय आर. भूसरेड्डी ने ओवर रेटिंग पर रोक लगाने के सख्त निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि, ओवर रेटिंग बर्दाश्त नहीं की जाएगी अगर करने वालों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। सभी विभागीय अधिकारी एक टीम के रूप में सक्रिय होकर कार्य करना सुनिश्चित करें। उन्होंने राज्य सरकार की मंशा के अनुरूप दिये गये लक्ष्य को पूरा करने के निर्देश दिये और कहा कि कुचेष्टा और बेइमानी कतई बर्दाश्त नहीं की जाएगी। डिस्टलरी स्तर की गड़बड़ियों को संज्ञान में लेकर सख्त कार्यवाही की जाएगी। समस्त अधिकारी सम्बंधित डिस्टलरी की समस्याओं का समाधान निकालना सुनिश्चित करें। निर्देश दिये गये हैं कि सभी जनपदीय अधिकारी नियमित रूप से दुकानों का निरीक्षण करें, जिससे कि अवैध शराब व अन्य अवैध कार्यों पर तत्काल रोक लगायी जा सके।

 

बैठक के दौरान भूसरेड्डी ने विभागीय अधिकारियों को प्रवर्तन कार्य को और कारगर बनाये जाने के निर्देश दिये और कहा कि अवैध मदिरा के उत्पादन पर पूरी तरह से अंकुश लगाते हुए दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाये। साथ ही आबकारी विभाग के अन्तर्गत निर्धारित की गयी राजस्व प्रात्तियों की निर्धारित समय में प्राप्ति सुनिश्चित की जाये। प्रमुख सचिव ने कहा कि, आबकारी विभाग प्रदेश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ है इसलिए इसमें किसी भी प्रकार की ढिलाई बर्दाश्त नहीं की जायेगी।

 

आबकारी आयुक्त पी. गुरू प्रसाद ने बैठक में बताया कि जून, 2019 में 2122.60 करोड़ रुपये की प्राप्तियां हुई। जबकि गतवर्ष इसी अवधि में 1678.50 करोड़ की प्राप्ति हुई। इस प्रकार गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष जून, 2019 तक 1227.98 करोड़ रुपये अर्थात् 19.63 प्रतिशत राजस्व की वृद्धि हुई। प्रवर्तन कार्य की जानकारी देते हुए गुरू प्रसाद ने बताया कि जून, 2019 कुल 12832 अभियोग पकड़े गये। इसी अवधि में 5.37 लाख लीटर अवैध मदिरा पकड़ी गयी। इसके साथ ही 178 वाहन पकड़े गये तथा 1120 व्यक्तियों को जेल भेजा गया। उन्होंने बताया कि वर्ष 2018-19 में जून, 2019 तक 480.25 लाख कुन्टल शीरे का उत्पादन हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

application/x-httpd-php footer.php ( PHP script text )
%d bloggers like this: