पत्रकार पर दर्ज हुए फर्जी मुकद्दमे

ANA News

फिरोजाबाद। लोकतंत्र का चौथा स्तम्भ कही जाने बाली पत्रकारिता आज खतरे में दिखायी दे रही । जहां योगी सरकार एक तरफ पत्रकारों के हितों की बात कर रही है तो दूसरी तरफ योगी सरकार के भ्रष्ट नेता व अधिकारी योगी सरकार की बनी हुई बात को बिगाड़ने में कोई कोर कसर नही छोड़ रहे । ऐसा ही एक मामला फ़िरोज़ाबाद में देखने को मिला है सत्ता के नशे में चूर योगी सरकार का एक जिलाध्यक्ष इतना मगरूर हो गया कि मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह की कवरेज कर रहे एक पत्रकार के खिलाफ झूठा मुकद्दमा लिखवा दिया , पत्रकार का दोष सिर्फ इस बात का था कि मुख्यमंत्री सामुहिक विवाह की कवरेज कर रहे राहुल तिवारी ने देखा कि कई पहले हो चुकी शादी को दुबारा कराया जा रहा है साथ ही कई दूल्हा दुल्हन के पंडित द्वारा पूरे फेरे ही नही कराये जा रहे साथ ही सरकारी पैसे के हो रहे दुरुपयोग के चलते जब इस सब के बारे में पत्रकार ने फ़िरोज़ाबाद के वर्तमान भाजपा जिलाध्यक्ष मानवेन्द्र लोधी से जान ने की कोशिश की तो भाजपा जिलाध्यक्ष पत्रकार पर भड़क गए मुकद्दमा दर्ज कराने की धमकी देने लगे । जिसके चलते भाजपा जिलाध्यक्ष मानवेंद्र लोधी ने बीते महज 12 घंटे के अंदर पत्रकार के खिलाफ मुकद्दमा पंजीकृत करा दिया ।

दरअसल पूरा मामला है फिरोजाबाद के थाना खैरगढ़ क्षेत्र में हुए मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह कार्यक्रम में पहुंचे फिरोजाबाद भाजपा के जिला अध्यक्ष मानवेंद्र लोधी के बोल उस समय बिगड़ गए जब एक पत्रकार ने खंड विकास अधिकारी से हुए सामूहिक विवाह कार्यक्रम में जो कि तीन-तीन फेरे लगाए गए जब पूछा गया कि विवाह सम्पन होने के लिए सात फेरों की आवश्यकता होती है। लेकिन सात फेरे क्यों नहीं लगाए गए , साथ ही जब उन से पूछा गया कि कुछ जोड़े कई दिन पहले ही परिणय सूत्र में बध चुके हैं तो फिर उनकी दोबारा शादी क्यों इसी बात को लेकर फ़िरोज़ाबाद के भाजपा जिलाध्यक्ष मानवेन्द्र लोधी ने पत्रकार राहुल तिवारी को धमकी दी साथ ही मुकद्दमा पंजीकृत कर दिया।

हालांकि पत्रकारों के एक प्रतिनिधिमंडल ने जिलाधिकारी चन्द्रविजय के साथ ही जनपद के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सचिन्द्र पटेल से मुलाकात की जिनकी तरफ से जांच कराने की बात पूरे मामले इतिश्री कर ली और कोई संतोषजनक जबाब नहीं दिया । जिसके चलते जनपद के पत्रकारों ने एक नई रणनीति के तहत काम शुरू कर दिया है ।

पत्रकार के बचाव में उतरे कई पत्रकार योगी सरकार के भ्रष्ट अधिकारियों व नेताओं के खिलाफ आर पार की लड़ाई के मूड़ में

इस पूरे मामले में नाराज पत्रकारों ने ठान लिया है कि आजकल योगी सरकार में जानबूझकर पत्रकारों को जिस तरह से निशाना बनाया जा रहा है साथ झूठे मुकद्दमों में फंसाया जा रहा है चाहे बीते दिनों में हुआ शामली प्रकरण हो या फिर ये फ़िरोज़ाबाद का मामला हो सभी पत्रकारों का कहना है कि यदि राहुल तिवारी के साथ इंसाफ नहीं हुआ तो भ्रष्ट नेताओं व अधिकारियों के खिलाफ जिले के सभी पत्रकार धरने पर बैठेंगें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

application/x-httpd-php footer.php ( PHP script text )
%d bloggers like this: