3 साल बाद एक बार फिर हो सकती हैं नोटबंदी, 2000 के नोटों को किया जाएगा बैन…

नई दिल्ली। आज से तीन साल पहले 8 नवंबर को देशभर में नोटबंदी की गई थी। नोटबंदी इसलिए की गई थी जिससे कालेधन पर लगाम लगाई जा सके। इसके लिए सरकार ने रातोंरात 1000-500 की नोटों को बंद करने का ऐलान कर दिया।वहीं आज 8 नवंबर को 3 साल पूरे होने के बाद अब 2000 के नोट भी बंद किए जा रहे हैं। जानकारी के मुताबिक 2000 हजार का नोट बंद करने की सबसे बड़ी वजह यह है कि इस नोट की मांग ज्यादा नहीं है और इसे चलाने में लोगों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

दरअसल, पूर्व वित्त सचिव सुभाष चंद्र गर्ग का कहना है कि 2000 रुपये के नोट को बैन किया जा सकता है। 31 अक्टूबर को वीआरएस ले चुके पूर्व वित्त सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने 2000 के नोटों को बैन करने का सुझाव सरकार को दिया है। गर्ग का कहना है कि 2000 के नोटों का बड़ा हिस्सा चलन में नहीं है। लोग 2000 की नोटों को जमा करने लगे हैं। वहीं उन्होंने ये भी कहा  कि सिस्टम में काफी ज्यादा नकदी मौजूद है, इसलिए 2000 के नोट बंद करने से कोई दिक्कत लोगों को नहीं होगी।

पूर्व वित्त सचिव गर्ग ने कहा कि दुनियाभर में लोग डिजिटल पेमेंट की ओर बढ़ रहे हैं, हालांकि भारत में भी लोग इसे अपना रहे हैं लेकिन अभी भी इसकी थोड़ी धीमी है। गर्ग ने सरकार को 72 पन्नों का एक सुझाव भेजा है जिसमें उन्होंने कहा है कि बड़े कैश लेन-देन पर टैक्स या शुल्क लगाने, डिजिटल पेमेंट को आसान बनाने जैसे कदमों से देश को कैशलेस बनाने में काफी  मदद मिलेगी।

जानकारी के मुताबिक 2000 के नोटों की जमाखोरी को कम करने के लिए सरकार नोटों की छपाई में धीरे-धीरे कटौती कर रही है और इस वर्ष अब तक एक भी 2000 के नोटों की छपाई नहीं की गई है। एक आरटीआई के जवाब में सरकार की ओर से बताया गया है कि 2000 रुपये के नोटों का ज्यादातर इस्तेमाल गैरकानूनी कामों में किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

छूटी हुई खबरे

%d bloggers like this: