बाल श्रम मानव तस्करी के विरुद्ध में कार्यशाला का आयोजन

*बाल श्रम व मानव तस्करी के विरुद्ध कार्यशाला का आयोजन**

ANA न्यूज़ लखनऊ बाल श्रम उन्मूलन एवं मानव तस्करी की रोकथाम के लिए ब्रिटिश हाई कमिशन नई दिल्ली द्वारा सहायतित व एक्शनएड द्वारा संचालित स्टार परियोजना के अंतर्गत बाल श्रम ,मानव तस्करी, पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन विकास भवन सभागार मे मुख्य विकास अधिकारी जनपद लखनऊ मनीष बंसल की अध्यक्षता मे किया गया जिसका शुभारम्भ एक्शनएड के कार्यक्रम प्रबन्धक क्रांति कुमार निगम के द्वारा संस्था द्वारा चलाये जा रहे अभियान के बारे में बात की इसी क्रम मे रिशोर्ष पर्सन आशीष श्रीवास्तव के द्वारा मानव तस्करी पर चर्चा करते हुए जिसमे आई.टी.पी.ए. एक्ट, रेस्क्यू आपरेशन से पहले तैयारी व बाल श्रम से सम्बंधित कानूनी प्राविधान के बारे में जानकारी दी गयी , साथ ही पुलिस, श्रम , महिला कल्याण व स्वयंसेवी संगठनों को आपसी सामंजस्य से साथ कार्य करने पर बल दिया क्योकि एक दूसरे की मदद के बिना बाल श्रम व मानव तस्करी रोकना असम्भव है। मुख्य विकास अधिकारी मनीष बंसल ने कहा कि बाल श्रम व मानव तस्करी एक बड़ी समस्या है इसको खत्म करने के लिए लोगो को इसके प्रति अधिक से अधिक जागरूक होना पड़ेगा साथ ही जो बच्चे स्कूल ड्रापआउट होते है उनकी बाल श्रम करने की अधिक सम्भावना होती है इसी के साथ मुख्य विकास अधिकारी के द्वारा बाल श्रम व मानव तस्करी जागरूकता अभियान का शुभारम्भा भी किया गया सहायक श्रमायुक्त रवि श्रीवास्तव ने कार्यशाला मे कहा की अगर किसी को जानकारी मे कोई बाल श्रमिक दिखता है तो उसकी सूचना तत्काल संबन्धित विभाग को देनी चाहिए और संबन्धित विभाग द्वारा क्रतकार्यवाही करनी चाहिए साथ ही उनके द्वारा श्रमिको के लिए चल रही योजनाओ के भी बारे मे जानकारी दी | कार्यशाला मे जिला प्रोबेशन अधिकारी सुधाकर शरण पाण्डेय ने कहा कि बाल श्रम व मानव तस्करी एक सामाजिक अभिशाप है जिसको खत्म करने के लिए सामाजिक संगठनो,को आगे आना पड़ेगा | बाल कल्याण समिति कि सदस्य डॉ0 संगीता शर्मा ने गुमशुदा बच्चों के विषय में चर्चा करते हुए कहा कि 10 मई 2013 को बचपन बचाओ आन्दोलन बनाम भारत संघ के मामले में मा. उच्चतम न्यायालय ने एतिहासिक निर्णय दिया है जिसमे बच्चों के मिसिंग की शत प्रतिशत एफ.आई.आर. करना अनिवार्य है, इसके लिए ट्रैक मिसिंग चाइल्ड, खोया पाया पोर्टल के साथ सभी सम्बंधित विभाग के साथ बच्चे की जानकारी साझा करना आवश्यक है ताकि जल्द से जल्द बच्चे के परिजन का पता चल सके । बाल श्रम व मानव तस्करी की रोकथाम के लिए पुलिस, बाल कल्याण समिति, स्वयंसेवी संगठनों व जिला बाल संरक्षण इकाई की भूमिका के बारे में बताया।
उक्त कार्यक्रम मे बाल कल्याण समिति ,प्रभारी विशेष किशोर पुलिस इकाई,अनैतिक मानव व्यापार निवारण इकाई ,समस्त थानो के बाल कल्याण पुलिस अधिकारी, जिला बाल संरक्षण इकाई ,आशा ज्योति केंद्र , आशीर्वाद ,विस्वास फाउंडेशन, मन फाउंडेशन ,सिटी व रेलवे चाइल्डलाइन ,नया सवेरा ,वार्ड विजन इंडिया ,कारितास इंडिया ,सेव दा चिल्ड्रेन ,प्रथम,इन सभी संस्थों के प्रतिनिधि व एक्शनएड से नाज़िश नज़मी,इंद्रसेनी गुप्ता ,नाशिर,समक्ष,प्रमोद कुमार उपस्थित रहे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: